सुविचार

जेपी-डायरी में आपका स्वागत है । अपना मूल्यवान समय निकालकर आने हेतु आभार । अपनी प्रतिक्रिया देना न भूलें ।

जेपी हंस

मेरी फ़ोटो
मूल रूप से बिहार राज्य के अरवल जिला के निवासी । मां भारती का सच्चा सपूत। स्वतंत्र लेखक। पूर्वी दिल्ली से प्रकाशित पूर्वालोक, आयकर विभाग राँची से प्रकाशित आयकर जोहार, आयकर विभाग, पटना से प्रकाशित आयकर विहार, ऑनलाईन वेब पत्रिका पुष्पवाटिक टाईम्स, ब्लॉग-बुलेटिन, अनुभव एवं विभिन्न पत्रिकाओं में प्रकाशित रचनाऐ. ई-मेल आई.डी- jphans25@gmail.com

26 नवंबर 2019

नई सरकार (व्यंग्य)

कल रात को मेरे नाक में दो मच्छर घुसने का प्रयास कर रहा था। मैंने उससे पूछा,"ये क्या बेहूदगी है, जो आप सीधे नाक में दम कर रहे हो, मेरे पी.ए से तो पूछ कर आते"
मच्छर ने कहा," हमें किसी ई.ए, पी.ए से पूछने की जरूरत नहीं पड़ती, हम साहेब के आदमी है, ओ भी बड़े साहब के।" मैं भी ठहरा संस्कारी, बोला ठीक है, आ ही गए हो तो बैठ जाओ। बताओ क्या बात है, जो इतनी रात को घर आये? उसने बोला, "आपका समर्थन चाहिए सरकार बनाने में।
मैं झिझका तभी बीच में बोल पड़ा, 50 मिलेंगे।
हमने कहा," यह 50 रुपया क्या है?  मोटा मच्छर अकड़ दिखाते हुए कहा, " अबे नया है क्या? नहीं जानता है, 50 रुपये नहीं, 50 करोड़।  अगर बाप या परिवार का कोई जेल में हो तो तुरन्त पैरोल और सरकार बनने के बाद बेल की गारंटी।  यदि कोई घोटाले में लिप्त हो, चाहे कितना भी बड़ा घोटाला हो तब पैसे की जगह घोटाला की जांच रोकने और क्लीनचिट की गारंटी साथ ही मंत्री पद भी। अबकी मच्छर कुछ बोला नहीं, बल्कि अपना रेट-कार्ड मुझे दिया। यह रखिये। रेट-कार्ड भगवा कलर का था। जिसमें ऊपर की सभी बातें साफ-साफ और स्पष्ट शब्दों में लिखा था। तभी मेरे मन में सवाल आया, कुछ बोलने ही वाला ही था, तो मच्छर बोला, पूछिये जो पूछना है,  समय ज्यादा नहीं है मेरे पास और किसी और से बात करने की जरूरत नहीं। हमें ही पूरा सेटिंग-गेटिंग का जिम्मा है।
हमने कहा भाई साहेब ये जांच का मामला तो जांच एजेंसी देखती है, ओ सरकारी मुलाजिम होता है, तभी बीच में टोकते हुए कहा, फिक्र नॉट, हमारा सब जगह सेटिंग है, बड़े साहब जो है।

-मैंने बातो में उलझाते हुए सुबह होने तक इंतजार करने को कहा । साथ ही पार्टी प्रमुख जो कहेंगे, वही न! इतने साल से पार्टी की सेवा जो कर रहा हूं।
- वैसे भी आप किस पार्टी के समर्थन के बारे में कह रहे है, आपने बताया नहीं, मैंने पूछा?
मच्छर तपाक से बोल पड़ा, "मेवा मिली क्या आज-तक? आज मेवा खाने का मौका है। किस पार्टी का समर्थन देना है ओ तो शपथ के समय पता चलेगा। अभी केवल सादा कागज पर साइन कीजिये और पार्टी से पूछकर ज्यादा हरिश्चन्द्र बनने की जरूरत नहीं है।
-मैंने दोहराया, फिर सिद्धान्त का क्या होगा?
सिद्धान्त, सिद्धान्त क्या होता है? पार्टी और नेता का कोई सिद्धान्त होता है क्या! सिद्धान्त यही की बहला-फुसलाकर कुर्सी हासिल करो। वैसे भी सिद्धान्त जाए बैगन के खेत में, हमें केवल सरकार बनाना है। ओ भी रातो-रात, नहीं तो सबेरे सब गुड़-गोबर हो जाएगा।
-मैंने अपनी बात फिर रखा, इतनी रात को क्या राज्यपाल जगे होंगे, सबेरे तो होने दीजिये, वैसे भी राजभवन का फैक्स अक्सर खराब ही होते है। इस बार छोटा मच्छर फुदका कहा, "नहीं, सब जुगाड़ फिट है।"

-मैंने सोचा अब बिना बिहारी दिमाग लगाए इससे छुटकारा नहीं।
मैंने चमन की माई को जोर से आवाज लगाई, चमन की माई, तनी तेलवा पिअलका लाठिया लाओ तो, जरा फिर से तेल पिआ के...चमन की माई भी बड़ी भोली है जल्दी ही तेल नहीं मिला तो घीउ पिलाकर लाठी लाई सोची कोई कुत्ता होगा इसी के लिए लठिया मांग रहे है।
यहां लाठी की बात सुनते की दोनों हांफते हुए भागा।

-क्या समझा था, ये गोआ, कर्नाटक और हरियाणा है? ई बिहार हई, हम हई खाँटी अहीर, गोआला के बेटा, यहां दाल नहीं गलीहे। मर जइहें, जेल में सड़ जइहें तइयो समझौता नही।

-सुबह जब उठा तो देखा की बगल की पटरी से अलग रेल पलटी हुई है और दोनों मच्छर भी टकराकर घायल हो गया है। दोनों मच्छरो को ठेले पर लादकर, चुकी बिहार में इतना जल्दी एम्बुलेंस तो मिलता नहीं और हम बिहारी किसी को ऐसे मरते छोड़ नहीं सकते तो ठेले पर लादकर बगल के "तुम्हे मरना होगा" हॉस्पिटल में भर्ती करवा दिया। हमारे यहां हॉस्पिटल में जीने की गारंटी तो नहीं पर मरने का
प्रमाण-पत्र जल्दी मिल जाता है।

-इधर जब अखबार उठाकर पढ़ने लगा तो देखा पहले पन्ने पर लिखा है,"हमारे राष्ट्र में नयी सरकार गठित" पहले कुछ सोचा हमारे देश में तो कब की सरकार बन गयी थी अब फिर... और फिर चश्मा की धूल साफ करते हुए पढ़ा, लिखा था "महाराष्ट में नई सरकार गठित" ओ पढ़ने में गलती से मिस्टेक हो गयी।

4 अक्तूबर 2019

जोड़ता कौन है?

तोड़ता तो आज हर कोई है।
कोई धर्म के नाम पर,
कोई जाति के नाम पर,
पर,
जोड़ता तो एक ही है
वह है,
डॉक्टर!
धर्म, जाति के भेद मिटाकर,
धर्म और जाति के हिंसा,
में झुलसे हुये को,
एक ही वार्ड में,
भर्ती कर,
एक ही बैंडेज पट्टी से,
एक ही तरह की दवा से,
इलाज कर।

27 सितंबर 2019

मृत्यु-दर में कमी।

जब से भारत में,
नया मोटर वेहिकल नियम आयी है।
मृत्यु-दर में कमी आयी है।
इसलिए नहीं की,
सड़कों पर गाड़ियां नहीं चल रहे हैं।
लोग बाइक नहीं चला रहे हैं।
-18 वाले हवा-हवाई नहीं चला रहे हैं।
इसलिए भी नहीं की,
किसी के पास आर.सी नहीं हैं,
किसी के पास पॉल्यूशन नहीं हैं,
किसी के पास डीएल नहीं है,
किसी के पास इन्शुरेंस नहीं हैं।
वे गाड़ियां नहीं चला रहे हैं।
यमराज भी
बड़े दिनों से बे-रोक टोक आ रहे थे।
सभी को बे-टाइम ही ले जा रहे थे।
ऐसा नहीं की,
यमराज के पास,
आने के लिए,
इनके वाहन का,
आर.सी नहीं हैं,
पॉल्यूशन नहीं हैं,
डीएल नहीं है,
इन्शुरेंस नहीं हैं।
सब कुछ है पर,
उनके सर पर भी मुसीबत पड़ी है।
क्योंकि यहाँ हर चौराहे पर पुलिस खड़ी है।
पुलिस के डंडो से,
जिस तरह,
नियम तोड़ने वालो की,
सुताई हुई है।
क्या बच्चे,
क्या बूढ़े,
क्या नौजवान,
यहाँ तक की,
यमराज की आत्मा भी डरी हुई है।
धरती पर आने से,
लोगों को ले जाने से,
आज का यमराज तो वही है।
जो चौक-चौराहे पर डंडा लेकर खड़ी है।
                    - जेपी हंस

26 सितंबर 2019

खुद से कैसे नजरें मिला पाते हो।

भूला दिया है तुझको खुद से मैं
बस यही झूठ बोलता हूँ।
डूबी होगी यही इश्क की नाव हमारी
यही सोचकर मैं दिल की समंदर को
हर रोज टटोलता हूँ।
की गलतियां बेशक मेरी थी
तूने मेरा हाथ बीच मझधार छोड़ दिया।
अरे भरोसा तुझपर इतना कर बैठा
मैंने तो तुझे मोहब्बत दी,
बदले में तूने कुछ और दे दिया।
की सारा जमीर ईमान किनारे करके
तेरी हर तमन्ना पूरी की
सीने से करेजा निकाल
तेरे कदमों पर रख दिया था
और बता तुझे क्या चाहिए था
किसी की जिंदगी से हर रंग छीनकर
हाथों में मेहंदी कैसे लगा पाते हो।
बस एक बात का जवाब दे दो
की आइने के सामने खड़े होकर
खुद से कैसे नजरें मिला पाते हो।

भींगते थे कभी तेरे साथ बारिश में कभी
ओ बरसात का मौसम कितना अच्छा लगता था।
अरे किसी के खोखले किये हुए वादे
कितना सच्चा लगता था।
आंखों में बंधी थी तेरे नाम की पट्टी
तूने मेरा नाता जब दर्द से जुड़वा दिया
तूने मेरा साथ क्या छोड़ा
की मेरा खुद के खुद से रिश्ता भी तुड़वा दिया।
की किसी के सपनो को पैरो से रौंदकर
आंखों में सुरमा कैसे लगा पाते हो
बस एक बात का जवाब दे दो
की आइने के सामने खड़े होकर
खुद से कैसे नजरें मिला पाते हो।

की तुझे जितना मैं जान सका हूँ।
की किसी के साथ उम्र भर साथ निभाने का
वादा भी तूने कर लिया होगा।
बस इस बार इतनी भी तहजीब रखना
की उसके साथ मेरे जैसा सलूक न करना।
की उसने भी तुझे आँखो में भर लिया होगा
की आबाद रहे, गुलजार रहे तू
दुआ मैं इतनी करता हूँ
तेरे साथ मेरा नाम न जोड़ दे कोई
तुझसे मैं इतना डरता हूँ।

मुहब्बत में पड़े लोगों को मेरी सलाह है
की अपनी जिंदगी को सुनसान ढलानों पे
मत मोड़ लेना।
अरे किसी के करीब तो आना पर
इतना भी नहीं की रूह तक से जोड़ लेना।
की तुझसे मेरा आखिरी सवाल है
की जिस्म तो छोड़ो रूह तक से कैसे दगा कर जाते हो।
बस एक बात का जवाब दे दो
की आइने के सामने खड़े होकर
खुद से कैसे नजरें मिला पाते हो।

न पूछो आंखों से उसके लिए अश्क बहाना कैसा था।
होती रही गुफ्तगू और कटती रही राते
न पूछो हाल-ए-दिल बताना कैसा था।
और उसके बच्चे भी लिपट जाते है मामा-मामा कहकर
अरे इन बच्चो की माँ भी कुछ युही लिपट जाती थी
शरमाकर, नजर झुकाकर,
अरे न पूछो उसका अंदाज कातिलाना और साल पुराना कैसा था।
                    -G Talks से संभार।

24 सितंबर 2019

आभारी हूँ मैं।

दर्द मुहब्बत के सह लू ,
जख्मों का अधिकारी हूँ मैं।
पीठ पर जिसने खंजर घोंपे,
उन सब का आभारी हूँ मैं।

5 सितंबर 2019

शिक्षक का उद्देश्य, लक्ष्य एवं संदेश ।


      आमतौर पर शिक्षक शब्द का जिक्र आते ही हमारे मन में जो पहली तस्वीर उभरती है । वह हमारे स्कूल या कॉलेज के शिक्षक की होती है । इसमें दो राय नहीं कि इन दो संस्थाओं के शिक्षक हमें सबसे ज्यादा ज्ञान देते हैं । व्यक्ति के जीवन को बनाने में इन शिक्षकों का अमूल्य योगदान होता है । एक तरफ जहाँ स्कूल, कॉलेज के शिक्षक हमें सही दिशा दिखाते है तो वहीं इस संस्थाओं के बाहर भी हमें जीवन के हर मोड़ पर शिक्षक अलग-अलग रूप में मिल सकते हैं । देश-दुनिया की प्रेरणादायक शख्सियते, कोई किताब, कोई स्थान, कोई कहानी या यहाँ तक कि कोई फिल्म भी हमें शिक्षा दे सकती है ।
      शिक्षक का उद्देश्य विद्यार्थियों में सत्य, अहिंसा, त्याग, बंधुत्व, नैतिकता, राष्ट्रीय एकता एवं विश्वमैत्री जैसी उतम भावनाओं को विकसित करने के साथ-साथ व्यक्ति को समर्थ बनाती है तथा समाज में सकारात्मक बदलाव के लिए मार्ग प्रशस्त करती है । छात्रों को समकालीन जीव की चुनौतियों से मुकाबला करने में सक्षम बनाने के साथ ही उनमें नैतिक एवं श्रेष्ठ मानवीय मूल्यों का विकास ही हमारी शिक्षक का लक्ष्य होना चाहिए । इस उद्देश्यों की प्राप्ति में शिक्षकों की अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका है ।
संदेशः- विद्यार्थियों को हमेशा सफलता के सपने देखना चाहिए । उसके लिए काम भी करें, दिशा-निर्देश लेते रहें । आपने यदि ईमानदारी से मेहनत किया है तो इसका परिणाम भी अच्छा आएगा । माता-पिता, अभिभावकों एवं शिक्षकों के निर्देशों को ध्यान से सुने । आपका उद्देश्य पैसे कमाने की मशीन बनना नहीं है अपितु सफल इंसान बनना है जो मानवीय मूल्यों एवं संवेदनाओं को समझ सकें ताकि मानवता हमेशा जिंदा रहें । जीवन सुखमय होना चाहिए, न कि केवल भौतिक सुख-संसाधन को इकट्ठा करने में व्यस्त हो जाए । संस्कार को बचाकर रखें ताकि हम आने वाले समय में इसका नमूना पेश कर पाएं ।
विद्यार्थियों को है कि सफलता का की शॉर्टकट फॉर्मूला नहीं होता । खुदा-न-खास्ता अगर किसी को मिल भी जाता है तो वह टिकाऊ नहीं होता ।
      आज के तकनीकी युग में ऑनलाइन साइट की आपके शिक्षक हैं । निश्चित हो आप आधुनिक तकनीकी का उपयोग करें किंतु सोशल मीडिया के भ्रामक, अश्लील और दिशाविहीन सामग्री के उपयोग करने से बचें ।
अंत में- ओशो ने शिक्षक के बारें में एक गम्भीर बात कही है । वे कहते है, शिक्षक ज्ञान का प्रसारक नहीं है । राजनीतिज्ञ ये समझ गया, इसलिए शिक्षक का शोषण राजनीतिज्ञ भी करता है । सबसे आश्चर्य की बात है कि इसका शिक्षक को कोई बोध नहीं है कि उसका शोषण होता है । इस नाम पर कि वो समाज की सेवा करता है, उसका शोषण हो रहा है ।
अब सवाल ये है कि क्या हमारा शिक्षक सिस्टम के एक टूल में परिवर्तित हो गया है ? यदि ऐसा है तो यह किसी भी जीवंत-जाग्रत समाज के लिए खतरे की घंटी है । फिर भी चाहे कितने भी शिक्षक दिवस मना लिए जाएं, बदलाव की उम्मीद निष्फल रहेगा । जरूरी ये है कि हम कोशिश करें और शिक्षकों की मर्यादा को वापस लौटाएं । उनका सम्मान करें और गाहे-बगाहे उन्हें अपनी समीक्षा खुद करने के लिए प्रेरित भी करें ।

कैसे बने शिक्षक?


हमें अपने आस-पास जितने भी कैरिअर क्षेत्र दिखते है, उनमें जाने के लिए सामान्य या विशेष अध्ययन की जरूरत होती है । स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी में सामान्य शिक्षक, विभिन्न विषयों के शिक्षकों से लेकर मैनेजमेंट, इंजीनियरिंग, मेडिकल, बिजनेस, मार्केटिंग, फाइन आर्ट, नृत्य, संगीत, योग, शारीरिक शिक्षा आदि तक ऐसा कोई भी क्षेत्र नहीं है, जहां शिक्षक की आवश्यकता नहीं हो । मूक-बधिर व मानसिक रूप से कमजोर बच्चों को पढ़ाने-सिखाने के लिए शिक्षकों में अलग तरह की योग्यता की जरूरत होती है । उससे भी महत्वपूर्ण यह है कि इन क्षेत्रों में शिक्षक बनने के लिए जहां पढ़ाई की जाती है, वहां भी शिक्षक होते हैं । इसलिए सबसे पहले तो यह तय करना जरूरी है कि आप कौन-से शिक्षक बनना चाहते हैं और क्यों ।
      आम-तौर पर बच्चे अपने शिक्षकों को देख कर बचपन में ही तय कर लेते हैं है कि उन्हें शिक्षक बनना है । लेकिन अगर आप शिक्षक बनने के प्रति गंभीर है तो आपको 11वीं कक्षा में तय कर लेना चाहिए, क्योंकि 12वीं कक्षा में अच्छे अंक लाकर आप स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए सर्टिफिकेट, डिप्लोमा या डिग्री कोर्स में एडमिशन के लिए प्रवेश परीक्षा दे सकते हैं । यदि आप कॉलेज अथवा यूनिवर्सिटी में टीचर (लेक्चरर या असिस्टेंट प्रोफेसर) बनना चाहते है तो विषय पहले तय करना होगा, वह विषय ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन में लेना होगा । उसमें 55% से अधिक अंक भी लाने होंगे । फाइन आर्ट, नृत्य, संगीत आदि का टीचर बनना हो तो बहुत कम उम्र (4 से 6 साल भी हो सकती है ) में ही अभ्यास शुरू करना होगा ।