जेपी हंस

मेरी फ़ोटो
मूल रूप से बिहार राज्य के अरवल जिला के निवासी । मां भारती का सच्चा सपूत। स्वतंत्र लेखक। मन की भावनाओं को लेखनी के रूप में कागज पर उतारना । पूर्वी दिल्ली से प्रकाशित पूर्वालोक, आयकर विभाग राँची से प्रकाशित आयकर जोहार, आयकर विभाग, पटना से प्रकाशित आयकर विहार, ऑनलाईन वेब पत्रिका पुष्पवाटिक टाईम्स, ब्लॉग-बुलेटिन, अनुभव एवं विभिन्न पत्रिकाओं में प्रकाशित रचनाऐ. ई-मेल आई.डी- जेपी@डाटामेल.भारत या drjphans@gmail.com

सुविचार

शब्द क्रांति में आपका स्वागत है । अपना मूल्यवान समय निकालकर आने हेतु आभार । अपनी प्रतिक्रिया देना न भूलें ।

4 अगस्त 2014

तेरी यादें


भूलने वाले से कोई कह दे जरा,
इस तरह याद आने से क्या फायदा,
जो मेरी दुनिया को बसाते नहीं,
फिर याद आकर सताने से क्या फायदा,

            मेरा दिल को जला कर क्या मिल गया,
            मिट सका न जमाना से मेरा निशा,
            मुझ पर बिजली गिराओ तो जाने सही,
            मेरा आँसुओं पर गिराने से क्या फायदा,

क्या कहूँ आपसे कितनी उम्मीद थी,
अब क्या बदले दुनिया बदलती गयी,
आसरा देकर दिल तोड़ते है मेरा,
इस तरह याद आने से क्या फायदा,

            आपने कितनी मुझे तकलीफें दी,
            लूट जाती हूँ याद करती हुई,
            ऐसे सजदें से अल्लाह मिलता नहीं,
            हर जगह सर झुकाने से क्या फायदा ।
                                   -अज्ञात

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें