सुविचार

शब्द क्रांति में आपका स्वागत है । अपना मूल्यवान समय निकालकर आने हेतु आभार । अपनी प्रतिक्रिया देना न भूलें ।

31 जनवरी 2015

मन चंगा तो कठौती में गंगा

03 फरवरी को संत रविदास की जयंती है । संत रविदास को रैदास के नाम से भी जाना जाता है । 14वीं शताब्दी में जन्में इस संत ने अपने समय में समाज में फैली जाति-पांति, धर्म, छुआछूत, पाखंड, अंधविश्वास आदि बुराईयों को दूर करने के लिए अनेक भक्तिमयी रचनाएं लिखीं । अपने उपदेशों द्वारा लोगों को पाखंड एवं अंधविश्वास को छोड़ कर सच्चाई के पथ पर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया । उन्होंने ही मन चंगा तो कठौती में गंगा का संदेश देकर लोगों को सर्वप्रथम कर्म की प्रधानता बतलाया ।
इनके जयंती के अवसर पर शब्द क्रांति के द्वारा प्रस्तुत है एक कविता ।

मन चंगा तो कठौती में गंगा ।
कह गए संत रविदास ।
ये वचन क्यों तु भूल गया ।
डूब के बन गया भोग विलास।
पाखंड, अंधविश्वास और बुराइयाँ छो़ड़ ।
सच्चाई के पथ पर चलना ।
कर्म पूरी लगन से कर ।
परिश्रम से कभी भी न डरना ।
ये जाति-पांति, धर्म, छुआछुत ।
किसी मन में विपदा न खाए ।
खोरहर करें इस तन-मन को
सो मिट्टी में जल्दी मिल जाए ।
राम, रहीम और गुरुनानक ।
सब एक ही का है नाम ।
ईश्वर भक्ति के पचड़े में न पड़कर ।
मिलजुलकर करै सब अपना काम ।
वेद, कुरान, बाईबिल, गुरुगंथ में ।
एक ही ईश्वर का है गुणगान ।
धर्म-कर्म के लफड़े में न पड़कर ।
इनके विचारों से करै स्नान ।
मन चंगा तो कठौती में गंगा ।
कह गए संत रविदास ।

हँसी के गोलगप्पे

(1)
दो औरतें को 20 साल की सजा हुई । 20 साल बाद दोनों जेल से बाहर निकली और एक दूसरे से मुस्कुरा कर बोली, चल, बाकी बातें घर जा कर पूरी करते हैं ।
(2)
एक छात्र ने गणित के अध्यापक से कहा-सर....   अंग्रेजी के अध्यापक तो अंग्रेजी में बातें करते है, हिन्दी के अध्यापक हिन्दी में बातें करते हैं । आप भी गणित में बात क्यों नहीं करते ।
अध्यापक-ज्यादा तीन-पाँच न कर फौरन नौ-दो ग्यारह हो जा, नहीं तो चार-पाँच रख दूँगा तो छठी का दूध याद आ जाएगा ।
(3)
संता ने अपनी बेटी के रूम में सिगरेट देखा ।
संता-हे भगवान, ये सिगरेट पीने लगी ।
फिर शराब की बोतल देखी,
संता- हे भगवान, शराब भी पीने लगी ।
कुछ देर बाद लड़की के रूम में एक लड़के को देखा ।
संता- हे भगवान, मेरी सब शक दूर हो गई, सब कुछ इस लड़के का है ।

सीख लेना पाक

वो पाक पाक तेरी इरादे अभी भी है नापाक ।
योगगुरू स्वामी रामदेव से सिखले करना योग सपाट ।
आतंकियो, कट्टरपंथियों को पनाह से कितने अपने हुए कुर्बान ।
श्री श्री रविशंकर से सीख लेना करना तन-मन का ध्यान ।
तेरे नेताओं की हालात ऐसी है कोई जाता विदेश तो कोई लौटता स्वदेश ।
श्री आसाराम बापू से सीख लेना जिंदगी जीने का उपदेश ।

15 जनवरी 2015

वक्त की हालात

सुनाता हूँ हे मातृभूमि एक दर्द भरी कहानी ।
गम-ए-जदा हम ही नही, हर जन की यही जुबानी ।
कहने को तो कहते सब, एक ईश्वर की है संतान ।
फिर दाता क्यों बनाया, उच्च-नीच का विधान ।
राज करता अदल-बदलकर वहीं केवल ठग से ।
क्या दाता तेरा छूट गया, लगाम अब इस जग से ।
मार-काट व खुन-खराबा, यही है इनकी मर्दानी ।
जात-पात व धर्म-कर्म पर बाँटना, बची यही निशानी ।
आपसी झगड़े जब तक रहेगा या रहेगा बड़ा फर्क ।
इस जिंदगी से बेहतर होता, अगर मिल जाता नर्क ।
इस भूमि की यही कहानी, नरक से भी बदतर है ।
सुनने में आया ये हालात तो अभी कमत्तर है ।
ऐसी रही हालात तो क्या होगा आने वाले दिनो में ।
बम-तोप से मर मिटेंगे, जलेंगे उन्हीं मशीनों में

1 जनवरी 2015

ये नव वर्ष हमें स्वीकार नहीं

ये नव वर्ष हमें स्वीकार नहीं
है अपना ये त्यौहार नहीं
है अपनी ये तो रीत नहीं
है अपना ये व्यवहार नहीं
धरा ठिठुरती है शीत से
आकाश में कोहरा गहरा है
बाग बाजारों की सरहद पर
सर्द हवा का पहरा है
सूना है प्रकृति का आँगन
कुछ रंग नहीं, उमंग नहीं
हर कोई है घर में दुबका हुआ
नव वर्ष का ये कोई ढंग नहीं
चंद मास अभी इंतजार करों
निज मन में तनिक विचार करो
नये साल नया कुछ हो तो सही
क्यों नकल में सारी अक्ल बही
ये धुंध कुहासा छंटने दो
रातों का राज्य सिमटने दो
प्रकृति का रूप निखरने दो
फागुन का रंग बिखरने दो
प्रकृति दुल्हन का रूप धर
जब स्नेह-सुधा बरसायेगी
शस्य-श्यामला धरती माता
घर-घर खुशहाली लायेगी
तब चैत्र-शुक्ल की प्रथम तिथि
नव वर्ष मनाया जायेगा
आर्यावर्त की पुण्य भूमि पर
जय-गान सुनाया जायेगा
                                  -अज्ञात