हमारा नया वर्ष आया है ।

आत्मीयता का विश्वास लेकर ।
मधुरता का पैगाम लेकर ।
दरिद्रता का अन्न लेकर ।
आज धरा पर आया है ।
हमारा नया वर्ष आया है ।
            नवजीवन में मुस्कुराहट लेकर ।
            खिले मन सा सुमन लेकर ।
            वनिता का सिंदूर लेकर ।
            भाई-भाई का प्रेम लेकर ।
            आज धरा पर आया है ।
            हमारा नया वर्ष आया है ।
विषम समाज की समता लेकर ।
दीर्घायू जनतंत्र की कामना लेकर ।
झगड़े-फसाद का कवच लेकर ।
अक्षय भंडार का वसुंधरा लेकर ।
आज धरा पर आया है ।
हमारा नया वर्ष आया है ।
            नव रश्मि में उजाला लेकर ।
            निर्बल का निराकरण लेकर ।
            धवल नवल सा प्रभात लेकर ।
            चेहरे का चमकी मुस्कान लेकर ।
            आज धरा पर आया है ।
            हमारा नया वर्ष आया है ।
सुरक्षा का सुदृढ़ आधार लेकर ।
मधुर बंधुत्व का विस्तार लेकर ।
आतंकी हमले से मुक्ति का प्रचार लेकर ।
अमन-चैन का उपहार लेकर ।
आज धरा पर आया है ।
हमारा नया वर्ष आया है ।
              -जेपी हंस



1 टिप्पणी:

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Blogger द्वारा संचालित.