जोड़ता कौन है?





तोड़ता तो आज हर कोई है।
कोई धर्म के नाम पर,
कोई जाति के नाम पर,
पर,
जोड़ता तो एक ही है
वह है,
डॉक्टर!
धर्म, जाति के भेद मिटाकर,
धर्म और जाति के हिंसा,
में झुलसे हुये को,
एक ही वार्ड में,
भर्ती कर,
एक ही बैंडेज पट्टी से,
एक ही तरह की दवा से,
इलाज कर।

कोई टिप्पणी नहीं

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Blogger द्वारा संचालित.