गजल


                            गजल

तोते दिखते ही नहीं, बाज नजर आते हैं ।
            बगुले और गिद्ध के समाज नजर आते हैं ।

मायने के आइने वे अन्दाज नजर आते हैं ।
             महफिल यह खुशियाँ बिखरेंगी कैसे ।

जब गाने वाले गायब, सिर्फ साज नजर आते हैं ।
            पद को जो दुनिया में हद करके छोड़ दें ।

कपटी के सर पे ही ताज नजर आते हैं ।
            असल में हम जिसका है उसे नहीं मिल पाता ।
ऐसे में कुटिल दगाबाज नजर आते हैं ।
                                        -अज्ञात        


कोई टिप्पणी नहीं

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Blogger द्वारा संचालित.