दर्शन दो मईया दर्शन दो


दर्शन दो मईया दर्शन दो
मईया दर्शन दो..............2
कि तेरा भक्त बुला रहा है।
            इस जग का है कैसा नाता
            कोई न भक्तन की सुधि लाता
            भक्तों की है मैया यही पुकार
            दर्शन दो मईया दर्शन दो
काली घटा देख मन घबराता
बीच भॅवर में कुछ न सुहाता
नित्य दिन करू मैं तेरी इंतजार
दर्शन दो मईया दर्शन दो.............2
            भाग-दौड़ का है यह जमाना
            सब के सपनों का तुही खजाना
            तेरी करू मैं सदा जयजयकार
            दर्शन दो मईया दर्शन दो............2
                                                 जे.पी. हंस




No comments

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Powered by Blogger.