गजल

शनिवार, अगस्त 02, 2014
                             गजल तोते दिखते ही नहीं, बाज नजर आते हैं ।             बगुले और गिद्ध के समाज नजर आते हैं । माय...
Blogger द्वारा संचालित.