03 August, 2014

पुतली

        

लिखते है खैरियत के अफसाने मे,
रात डाक पड़ा है थाने में,

कुछ है लीन मात देने में,
कुछ लगें है सह बचाने में,
ऊपर-ऊपर है दोस्ती उनमें,
है दाव-पेंच दरमियाने में,

यह फैसला लिया गया लोगों ने,
कल मिल बैठकर मयखाने में,
मरहवा, तुम बड़े माहिर निकलें,
काठ की पुतली नचाने में ।
                         -अज्ञात

जिंदगी में हो अगर करना करिश्मा


आदमी जब ठान लेता स्वयं मन में,
ऊंगलियों से छेद कर देता गगन में,
मुँह लगाकर सोख लेता है समन्दर,
उलट देता है हिमालय एक क्षण में ।
जिंदगी में हो अगर करना करिश्मा,
बदल डालों तुम पुरातन आज चश्मा,
पालकी से उतर कर किरणें हँसेगा,
घाटियों में फिर भरेगी भव्य सुषमा
आपके ऊपर कहें किसकी दुआ है,
खिल उठा वो आपने जिसके हुआ है,
जिंदगी में आपने जब भी जहाँ पर ,
जो लिया संकल्प पूरा ही हुआ है ।
बात मत करना यहाँ संवेदना की
आदमी की भावभीनी भावना की,
लोग कब तारीफ करते हैं किसीकी,
रात दिन चलती हवा आलोचना की।
                                  -अज्ञात