शायरनामा

गुरुवार, सितंबर 17, 2015
दोस्तो नमस्कार,                  कुछ खट्टे मिठ्ठे शायराना अंदाज में शेर प्रस्तुत है । बिन दिये पानी गुलाब में,                   कली न...

हिन्दी की पोषण

रविवार, सितंबर 13, 2015
किसी भी देश की राष्ट्रभाषा वहां की ज्ञान, चेतना और चिंतन की मूल धुरी होती है । ऐसे मे, हमारे ही घर-परिवारों में हिन्दी की उपेक्षा चिंतनीय ...

पार्टी फंड

मंगलवार, फ़रवरी 03, 2015
जीतू इन दिनों काफी परेशान था, उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या करें ?  जीतू को काफी खुन-पसीना बहाने के बाद एक छोटी-सी नौकरी मिली थी...

फिजूलखर्ची

मंगलवार, फ़रवरी 03, 2015
एक बार रवि ट्रेऩ से सफर कर रहा था । बगल की सीट पर दो लड़किया बैठी थी । देखने में काफी अच्छे घराने की लग रही थी । ट्रेन में लम्बी सफर में ब...

सोच-विचार

मंगलवार, फ़रवरी 03, 2015
कपकपाती ठंड में रतन ताजा हवा खाने के लिए जैसे ही खिड़की खोला, उसकी नजर एक आठ वर्षीय उस लड़की पर पड़ी, जो कचड़े की ढेर से कुछ चुन रही थी । ...
Blogger द्वारा संचालित.