वक्त की हालात

सुनाता हूँ हे मातृभूमि एक दर्द भरी कहानी ।
गम-ए-जदा हम ही नही, हर जन की यही जुबानी ।
कहने को तो कहते सब, एक ईश्वर की है संतान ।
फिर दाता क्यों बनाया, उच्च-नीच का विधान ।
राज करता अदल-बदलकर वहीं केवल ठग से ।
क्या दाता तेरा छूट गया, लगाम अब इस जग से ।
मार-काट व खुन-खराबा, यही है इनकी मर्दानी ।
जात-पात व धर्म-कर्म पर बाँटना, बची यही निशानी ।
आपसी झगड़े जब तक रहेगा या रहेगा बड़ा फर्क ।
इस जिंदगी से बेहतर होता, अगर मिल जाता नर्क ।
इस भूमि की यही कहानी, नरक से भी बदतर है ।
सुनने में आया ये हालात तो अभी कमत्तर है ।
ऐसी रही हालात तो क्या होगा आने वाले दिनो में ।
बम-तोप से मर मिटेंगे, जलेंगे उन्हीं मशीनों में

5 comments:

  1. सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  2. उम्दा....बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@मेरे सपनों का भारत ऐसा भारत हो तो बेहतर हो
    मुकेश की याद में@चन्दन-सा बदन

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग पर पधारने और अपनी कीमती प्रतिक्रिया देकर हौसला बढाने के लिए शुक्रिया...

    ReplyDelete

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Powered by Blogger.