सुविचार

जेपी-डायरी में आपका स्वागत है । अपना मूल्यवान समय निकालकर आने हेतु आभार । अपनी प्रतिक्रिया देना न भूलें ।

जेपी हंस

मेरी फ़ोटो
मूल रूप से बिहार राज्य के अरवल जिला के निवासी । मां भारती का सच्चा सपूत। स्वतंत्र लेखक। पूर्वी दिल्ली से प्रकाशित पूर्वालोक, आयकर विभाग राँची से प्रकाशित आयकर जोहार, आयकर विभाग, पटना से प्रकाशित आयकर विहार, ऑनलाईन वेब पत्रिका पुष्पवाटिक टाईम्स, ब्लॉग-बुलेटिन, अनुभव एवं विभिन्न पत्रिकाओं में प्रकाशित रचनाऐ. ई-मेल आई.डी- jphans25@gmail.com

31 जुलाई 2015

डॉ कलाम को श्रद्धांजलि

देता हूँ श्रद्धांजलि करता हूँ कोटी-कोटी नमन ।
कैसे भूल पायेगा जो खिलाये आपने हिन्द में चमन ।
जगाया है जो आपने जन-जन में विश्वास ।
यही बात आपको बनाता है सबके खास ।
सर्व-धर्म-स्वभाव का जब आपने रखा ख्याल ।
बुद्धि, विवेक और कर्म से हिन्द को किया निहाल ।
नयन चक्षु प्लावित हुआ जब आपने जग छोड़ा ।
अन्तिम मिलन के खातिर सबने जाति-धर्म तोड़ा ।
जो दिया आपने नवयुवको को सफलता का मंत्र ।
बदल जाता है इससे जीवन का सारा तंत्र ।
मानते है सब आपको जीवन का प्रेरणास्त्रोत ।
कर्मों और विचारों से आपके होते है सब ओत पोत ।
व्यक्तित्व, कृतित्व और सादगी ये है आपकी पहचान ।
हिन्द नहीं भूल पायेगा जब तक रहेगा धरा-आसमान ।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।