हमारी नव वर्ष आई है।

छटा धुंध कुहासा हटी
फागुनी रूप निखराई है।
प्रकृति दुलहनि रूप धरकर
स्नेह सुधा बरसाई है ।
हमारी नव वर्ष आई है।
शस्य- श्यामला धरती माता
घर-घर खुशहाली लाई है।
चैत- शुक्ल की प्रथम तिथि
नव तरंग फैलाने आई है।
हमारी नव वर्ष आई है।
मरु तरु श्रृंगारित होकर
बहारे आँचल में फागुन आई है।
आर्यावर्त की पावन भूमि पर
होली की तान सुनाई है।
हमारी नव वर्ष आई है।
        - जेपी हंस
होली और नव वर्ष की आपको और आपके पूरे परिवार को हार्दिक बधाई....

6 comments:

  1. होली की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " ब्लॉगर होली मिलन ब्लॉग बुलेटिन पर “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  3. सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  4. Nice post keep posting keep visiting kahanikikitab.com

    ReplyDelete

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Powered by Blogger.