सदाबहार-2

कभी रेत पर लिखी थी हम दोनों की जिंदगानी।
आँधियाँ आई, तूफान आया मिट गयी निशानी।
मुलाकातों को दौर चलता है चलता भी रहेगा।
बस होंठो में मुस्कान और लेकर आंखो में पानी।
                            जेपी हंस

कोई टिप्पणी नहीं

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Blogger द्वारा संचालित.