सपने थे हजार (गजल)

Thursday, May 11, 2017
सपने थे हजार उनके मन में, पर कोई उजाला ला न सका । भटकता रहा दर-दर पगडंडियों पे, पर कोई सामने आ न सका। हजार रास्ते बनाये रहमो-करम ने...

काश तु मिलती (गजल)

Thursday, May 11, 2017
काश तु मिलती तो एक दिन । आखें फड़फड़ाके कहती है । दो जिस्म एक जान होती । धड़कने   पुकार कर कहती है । झुठ नहीं बोल...
Powered by Blogger.