पुल




चाहा था बनाऊंगा एक पुल तेरे दिल तक पहुचने को।
तुम्हें क्या पता कितना दर्द होता है प्यार में अपनों का।
मर-मिटने की कसमें खायी थी उस दिन,
आज बड़ी शिद्दत से जरूरत पड़ी है दिल तोड़ने का।

कोई टिप्पणी नहीं

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Blogger द्वारा संचालित.