शिक्षक का उद्देश्य, लक्ष्य एवं संदेश ।

     
  
आमतौर पर शिक्षक शब्द का जिक्र आते ही हमारे मन में जो पहली तस्वीर उभरती है । वह हमारे स्कूल या कॉलेज के शिक्षक की होती है । इसमें दो राय नहीं कि इन दो संस्थाओं के शिक्षक हमें सबसे ज्यादा ज्ञान देते हैं । व्यक्ति के जीवन को बनाने में इन शिक्षकों का अमूल्य योगदान होता है । एक तरफ जहाँ स्कूल, कॉलेज के शिक्षक हमें सही दिशा दिखाते है तो वहीं इस संस्थाओं के बाहर भी हमें जीवन के हर मोड़ पर शिक्षक अलग-अलग रूप में मिल सकते हैं । देश-दुनिया की प्रेरणादायक शख्सियते, कोई किताब, कोई स्थान, कोई कहानी या यहाँ तक कि कोई फिल्म भी हमें शिक्षा दे सकती है ।
      शिक्षक का उद्देश्य विद्यार्थियों में सत्य, अहिंसा, त्याग, बंधुत्व, नैतिकता, राष्ट्रीय एकता एवं विश्वमैत्री जैसी उतम भावनाओं को विकसित करने के साथ-साथ व्यक्ति को समर्थ बनाती है तथा समाज में सकारात्मक बदलाव के लिए मार्ग प्रशस्त करती है । छात्रों को समकालीन जीव की चुनौतियों से मुकाबला करने में सक्षम बनाने के साथ ही उनमें नैतिक एवं श्रेष्ठ मानवीय मूल्यों का विकास ही हमारी शिक्षक का लक्ष्य होना चाहिए । इस उद्देश्यों की प्राप्ति में शिक्षकों की अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका है ।
संदेशः- विद्यार्थियों को हमेशा सफलता के सपने देखना चाहिए । उसके लिए काम भी करें, दिशा-निर्देश लेते रहें । आपने यदि ईमानदारी से मेहनत किया है तो इसका परिणाम भी अच्छा आएगा । माता-पिता, अभिभावकों एवं शिक्षकों के निर्देशों को ध्यान से सुने । आपका उद्देश्य पैसे कमाने की मशीन बनना नहीं है अपितु सफल इंसान बनना है जो मानवीय मूल्यों एवं संवेदनाओं को समझ सकें ताकि मानवता हमेशा जिंदा रहें । जीवन सुखमय होना चाहिए, न कि केवल भौतिक सुख-संसाधन को इकट्ठा करने में व्यस्त हो जाए । संस्कार को बचाकर रखें ताकि हम आने वाले समय में इसका नमूना पेश कर पाएं ।
विद्यार्थियों को है कि सफलता का की शॉर्टकट फॉर्मूला नहीं होता । खुदा-न-खास्ता अगर किसी को मिल भी जाता है तो वह टिकाऊ नहीं होता ।
      आज के तकनीकी युग में ऑनलाइन साइट की आपके शिक्षक हैं । निश्चित हो आप आधुनिक तकनीकी का उपयोग करें किंतु सोशल मीडिया के भ्रामक, अश्लील और दिशाविहीन सामग्री के उपयोग करने से बचें ।
अंत में- ओशो ने शिक्षक के बारें में एक गम्भीर बात कही है । वे कहते है, शिक्षक ज्ञान का प्रसारक नहीं है । राजनीतिज्ञ ये समझ गया, इसलिए शिक्षक का शोषण राजनीतिज्ञ भी करता है । सबसे आश्चर्य की बात है कि इसका शिक्षक को कोई बोध नहीं है कि उसका शोषण होता है । इस नाम पर कि वो समाज की सेवा करता है, उसका शोषण हो रहा है ।
अब सवाल ये है कि क्या हमारा शिक्षक सिस्टम के एक टूल में परिवर्तित हो गया है ? यदि ऐसा है तो यह किसी भी जीवंत-जाग्रत समाज के लिए खतरे की घंटी है । फिर भी चाहे कितने भी शिक्षक दिवस मना लिए जाएं, बदलाव की उम्मीद निष्फल रहेगा । जरूरी ये है कि हम कोशिश करें और शिक्षकों की मर्यादा को वापस लौटाएं । उनका सम्मान करें और गाहे-बगाहे उन्हें अपनी समीक्षा खुद करने के लिए प्रेरित भी करें ।

2 comments:

  1. बहुत बढ़िया है सर मैं हमेशा आपके सभी मैसेज देखता हूँ।मुझे उम्मीद है कि एक दिन आपको बहुत प्रसिद्धि मिलेगी आपके इन अच्छे कार्यों के लिए।

    ReplyDelete
  2. हौसला बढ़ाने के लिए शुक्रिया...

    ReplyDelete

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Powered by Blogger.