बहुत याद आती है तेरी


 

   डियर ऑफिस बहुत याद आती है तेरी

वो ऑफिस पहुँचकर

सबको दुआ-सलाम करना,

बगल में लगे,

माँ सरस्वती को चरण स्पर्श करना,

आई.टी.बी.ए पर वर्क करना,

कितना अच्छा लगता था न ।

 

पानी की बोतल उठाकर,

गटक-गटक कर पीना,

कभी कैंटीन निकल जाना,

चाय ऑफि में रहते हुए भी,

बाहर जाकर चाय पीना,

कितना अच्छा लगता था न ।

 

फिर दोस्तों के साथ लंच

करते-करते

गप्पे करना

काम के लिए,

कभी उस साहब के पास,

तो कभी इस साहब के

 पास जाना ।

कितना अच्छा लगता था न ।

-    जेपी हंस


1 टिप्पणी:

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Blogger द्वारा संचालित.