हाँ, मैं मजदूर हूँ न !



भारतीय मजदूर,

सदियों से शोषित,

वर्षों से पीड़ित रहने वाला,

कभी जमींदारों के गुलाम,

कभी पूजीपतियों के गुलाम,

गुलामी ही जिसका नसीब

वहीं जंजीर हूँ न !

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

 

बंजर खेतों को उपजाऊं बनाकर,

हरे-भरे फसल लहराकर,

मोटे-मोटे अन्न उपजाने वाला,

मालिकों का पेट भरकर,

भुखे पेट सोने वाला

वहीं बदनसीब

भूखा पेट सुलाने,

परिवार को आतुर हूँ न !

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

 

 

वोटो के समय,

नोटों के गड्डियों से

तौला जाने वाला,

जीतने के बाद,

पर्वत सी,

झूठी वादे सुनकर

अपने रहमोकरम पर रहकर,

जीने वाला,

हादसे का

 कब्रिस्तान हूँ न !

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

 

फैक्ट्री मालिकों के

फिर से गुलाम बनकर,

बात-बात में भठियों में

फेकने की गालियां

सहने वाला,

पगार काटने की धमकी,

सहते-सहते

पत्थर दिल बनने वाला,

वाला इंसान हूँ न !

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

 

 

तपती धूप में

पत्थर तोड़ने वाला,

सर्द दिनों में कम कपड़ों

में रात-दिन एक कर

कम्पनी का उत्पादन

बढ़ाने वाला,

मेहनतकस काम

के पक्के उसूल

हूँ न!

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

 

पापा पेट को भरने,

घर-गाँव-दुआर छोड़कर

शहर आने वाला

वक्त-बे-वक्त अपने

रहमोकरम पर रहकर,

झुठे ढाढस दिलाये जाने वाला

 बदस्तूर हूँ न !

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

        -जेपी हंस

 

 


6 comments:

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (21 -4 -2020 ) को " भारत की पहचान " (चर्चा अंक-3678) पर भी होगी,
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    ---
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको भी नमस्कार.. शुक्रिया जी...

      Delete
  2. मजदूर की दुखद जिंदगी भरी दास्तान...

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत और भावपूर्ण पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हौसलाअफजाई के लिए बहुत-बहुत आभार...

      Delete

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Powered by Blogger.