हाँ, मैं मजदूर हूँ न !



भारतीय मजदूर,

सदियों से शोषित,

वर्षों से पीड़ित रहने वाला,

कभी जमींदारों के गुलाम,

कभी पूजीपतियों के गुलाम,

गुलामी ही जिसका नसीब

वहीं जंजीर हूँ न !

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

 

बंजर खेतों को उपजाऊं बनाकर,

हरे-भरे फसल लहराकर,

मोटे-मोटे अन्न उपजाने वाला,

मालिकों का पेट भरकर,

भुखे पेट सोने वाला

वहीं बदनसीब

भूखा पेट सुलाने,

परिवार को आतुर हूँ न !

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

 

 

वोटो के समय,

नोटों के गड्डियों से

तौला जाने वाला,

जीतने के बाद,

पर्वत सी,

झूठी वादे सुनकर

अपने रहमोकरम पर रहकर,

जीने वाला,

हादसे का

 कब्रिस्तान हूँ न !

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

 

फैक्ट्री मालिकों के

फिर से गुलाम बनकर,

बात-बात में भठियों में

फेकने की गालियां

सहने वाला,

पगार काटने की धमकी,

सहते-सहते

पत्थर दिल बनने वाला,

वाला इंसान हूँ न !

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

 

 

तपती धूप में

पत्थर तोड़ने वाला,

सर्द दिनों में कम कपड़ों

में रात-दिन एक कर

कम्पनी का उत्पादन

बढ़ाने वाला,

मेहनतकस काम

के पक्के उसूल

हूँ न!

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

 

पापा पेट को भरने,

घर-गाँव-दुआर छोड़कर

शहर आने वाला

वक्त-बे-वक्त अपने

रहमोकरम पर रहकर,

झुठे ढाढस दिलाये जाने वाला

 बदस्तूर हूँ न !

हाँ, मैं मजदूर हूँ न !

        -जेपी हंस

 

 


6 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (21 -4 -2020 ) को " भारत की पहचान " (चर्चा अंक-3678) पर भी होगी,
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    ---
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  2. मजदूर की दुखद जिंदगी भरी दास्तान...

    जवाब देंहटाएं
  3. खूबसूरत और भावपूर्ण पंक्तियाँ।

    जवाब देंहटाएं

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Blogger द्वारा संचालित.