बिहार सरकार से नेट/जेआरएफ/पीएचडी उतीर्ण छात्रों की मांग...





  • फोटोः गूगल से संभार.


सेवा में,
माननीय मुख्यमंत्री बिहार
विषयः- सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति में “डिग्री-लाओ-नौकरी-पाओ” 
      प्रणाली की जगह  प्रतियोगिता परीक्षा आयोजन कराने के संबंध में ।
महोदय,
      पूरी भारत में सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति प्रतियोगिता परीक्षा से होती है जिसे आप सत्यापित अपने तरीके से भी कर सकते हैं पर हमारे बिहार राज्य में 'बिहार राज्य विश्वविद्यालय सेवा आयोग, पटना' ने इस उच्च योग्यता और कुशलता वाले पदों पर नियुक्ति करने हेतु “डिग्री-लाओ-नौकरी-पाओ” को नियुक्ति का आधार बनाया है, जो किसी भी दृष्टिकोण से सही प्रतीत नहीं हो रहा है । महोदय हम निम्नलिखित बिन्दुओं के आधार पर बिहार में भी सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति, प्रतियोगिता परीक्षा के आधार पर करने की विनम्र मांग करते हैं ।
महोदय “डिग्री-लाओ-नौकरी-पाओ” प्रणाली भर्ती की सबसे पुरानी पद्धतिओं में से एक है, जिसमे व्याप्त खामियों को देखते हुए प्रत्येक राज्य इसके जगह प्रतियोगिता परीक्षा आयोजित करवाकर नियुक्ति की प्रक्रिया पूरी कर रहें है । फिर हमारे बिहार में भी क्यों न पुरानी पद्धति को त्याग कर प्रतियोगिता परीक्षा द्वारा योग्य और बेहतर और समनुकूल पेशेवर का चयन किया जाये इससे बिहार के छात्रों को भी ज्यादा अवसर मिलेगा क्योंकि हम बिहारी विद्यार्थी डिग्री जुटाने के जगह कठिन मेहनत और लगन के लिए जाने जाते रहे है और किसी भी प्रतियोगिता परीक्षा में ज्यादा से ज्यादा सफलता हासिल करते आ रहे हैं इसका गवाह यूपीएससी जैसे परीक्षा भी हैं
      महोदय, विभिन्न विश्विद्यालयो के मूल्यांकन प्रणाली और उनके प्राप्तंको में बहुत अंतर है जैसे बिहार के लगभग सभी विश्वविद्यालय भारत में सबसे कम मार्किंग के लिए जाने जाते हैं।
इससे भी बड़ा अंतर सेमेस्टर और ऐनुअल एक्जाम सिस्टम के प्राप्तांकों में है । ग्रेडिंग और नन ग्रेडिंग के बीच प्राप्तांकों में तो और ज्यादा अंतर है- उदाहरणस्वरूप बिहार के सभी विश्वविद्यालय, इलाहाबाद विश्वविद्यालय, दिल्ली विश्वविद्यालय (DU), जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) और जामिया मिलिया विश्वविद्यालय में जहां 65% पर गोल्ड मेडलिस्ट हो जाता है वहीं बनारस हिन्दी विश्वविद्याल (BHU) में एक सामान्य छात्र भी 80% तक अंक पाता है । ऐसे में प्रतियोगिता परीक्षा के जगह “डिग्री-लाओ-नौकरी पाओ” के आधार पर नियुक्ति घोर अन्यायपूर्ण और अवसर की समानता के खिलाफ है, जिससे मेधावी और कुशल छात्र-छात्राओं के पात्रता भी नहीं बच पा रहा है ।
बिहार में सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति में इसी “डिग्री-लाओ-नौकरी-पाओ” नियम को आधार बनाया जाता रहा है, जिसके कारण बिहारी छात्रों को कम अवसर मिल पाता है । चूंकि बिहार बोर्ड और बिहार के यूनिवर्सिटीज भारत के सबसे कम मार्किंग वाले बोर्ड और यूनिवर्सिंटी है अतः प्रतियोगित परीक्षा के जगह एकेडमिक अंकों पर भर्ती बिहारी छात्रों के प्रति घोर अन्याय है
इसके अलावा लिखित प्रतियोगिता परीक्षा विभिन्न पृष्टभूमि के छात्रों को समान अवसर देता हैं, प्रतियोगिता परीक्षा द्वारा चुने जाने पर भाई भतीजावाद का अवसर कम रहता है ।
महोदय भारत हीं नही अमेरिका और यूरोप में भी कॉपी पेस्ट किये पीएचडी थिशिस की की बात सामने आई हैं वैसे में इन सन्दिग्ध मानकों के बजाए लिखित परीक्षा द्वारा नियुक्ति सबके लिये न्यापूर्ण अवसर प्रदान कर सकता है ।
लिखित परीक्षा द्वारा आज के बच्चो के जरूरतों के अनुसार शिक्षण अभिरुचि,मनोविज्ञान और विषय आधारित सवालों को सम्मलित करते हुए एक ज्यादा बेहतर समयानुकूल और लचीले शिक्षक का चयन सम्भव है जो एकेडमिक अंक विधि में नहीं सम्भव हैं
इसी कारण मध्यप्रदेश, ओडिसा, हरियाणा, उत्तरप्रदेश, राजस्थान और हिमाचल प्रदेश आदि अन्य अनेक राज्य सहायक प्रोफेसर का चयन खुली प्रतियोगिता परीक्षा द्वारा करते हैं
अतः हम अपने बिहार राज्य में भी खुली प्रतियोगिता परीक्षा के आधार पर सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति की उम्मीद करते हैं ताकि शिक्षा के क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन होने के साथ शिक्षा के क्षेत्र में होनेवाली क्रांति में अपनी सहभागिता सुनिश्चित कर सकेंगे  ।
       अतः हम महोदय से विनम्र प्रार्थना करते हैं कि आप इस संदिग्ध, दोषपूर्ण और पुरानी पद्धति “डिग्री-लाओ-नौकरी-पाओ” प्रणाली के जगह खुली प्रतियोगिता परीक्षा द्वारा नियुक्ति कराने की कृपा कर के  न केवल बिहार राज्य का मान बढ़ाने में भागेदारी सुनिश्चित करेंगे अपितु राष्ट्रीय स्तर पर भी मान-सम्मान बढ़ाने में महती भूमिका का निर्वहन कर सकेंगे ।
निवेदक ~
बिहार के सहायक प्रोफेसर के योग्य समस्त छात्र-छात्राएं ।


हमारे ब्लॉग को पढ़ने के लिए आपका स्वागत। हमारा ब्लॉग कैसा लगा ? अपनी कीमती प्रतिक्रिया देकर हौसला बढ़ाये और आगे शेयर करना न भूले।

No comments

अपना कीमती प्रतिक्रिया देकर हमें हौसला बढ़ाये।

Powered by Blogger.