27 April, 2020

काहे भूल गई माई हमके (भक्ति गीत)


काहे भूल गई माई हमके नयना चुराई के ।
प्रीत लगाई हमके आपन शरण में बुलाई के ।

तोहरी द्वारे माई भक्त जब निहारे ।
आस के चेहरा उम्मीद के सहारे ।
तन-मन में आस दिखाई,
सबके जिंदगी बनाई के ।
काहे भूल गई...........

मन में हई विद्या की लालसा,
तन में उम्मीद की बयार ।
भाव हई बेजोड़ हमरी, 
बाकी हई माँ तेरा प्यार ।
प्यार पूरी न हो पाई ,
तोहरा के छोड़ के ।
काहे भूल गई..........

है यही इच्छा हमरी, 
नाम फैले सारा जग में ।
कोई कोना न हो बाकी,
 दिखे पग-पग में ।
पग-पग में नाम सुनाई,
 दिल के हिलोड़ के ।
काहे भूल गई..........
                           -जेपी हंस
                             

दर्शन दो मईया दर्शन दो (भक्ति गीत)



दर्शन दो मईया... दर्शन दो...
मईया दर्शन दो..............2
कि तेरा भक्त बुला रहा है।

इस जग का है कैसा नाता
कोई न भक्तन की सुधि लाता
भक्तों की है मैया यही पुकार
दर्शन दो मईया... दर्शन दो...........2

काली घटा देख मन घबराता
बीच भॅवर में कुछ न सुहाता
नित्य दिन करू मैं तेरी इंतजार
दर्शन दो मईया... दर्शन दो.......2

भाग-दौड़ का है यह जमाना
सब के सपनों का तुही खजाना
तेरी करू मैं सदा जयजयकार
दर्शन दो मईया... दर्शन दो............2
                               जे.पी. हंस