16 May, 2021

कवि मित्र और सरकारी कर्मचारी


 


 

एक बार एक कवि और उसके सरकारी कर्मचारी मित्र की मुलाकात किसी मोड़ पर हुआ । बात-बात में सरकारी कर्मचारी ने कहाँ, मैं बहुत देशभक्त हूँ और विदेशी चीजों का बहिष्कार करता हुँ ।

कवि मित्र- ज्यादा मत फेको, आप और हम कभी विदेशियों के बिना जी नहीं सकतें ।

सरकारी कर्मचारी- कैसे?

कवि मित्र- अच्छा!  बताओं, अभी कहाँ जा रहे हो आप ?

सरकारी कर्मचारी- तपास से! मैं अभी ऑफिस जा रहा हूँ ।

कवि मित्र- ऑफिस तो अंग्रेजी शब्द है तो अंग्रेजों को अभी तक क्यों ढो रहे हो ?

सरकारी कर्मचारी- अच्छा ! तो दफ्तर जा रहा हूँ ।

कवि मित्र- दफ्तर मत जा, यह तो अरबी शब्द है । अब अरब वालों से दोस्ती क्यों ?

 

सरकारी कर्मचारी- मैं कार्यालय जा रहा हूँ, वहाँ जाकर अपने पेशे का कार्य ईमानदारी से करने जा रहा हूँ ।

कवि मित्र- ईमानदारी छोड़. यह तो फारसी शब्द है और अपनी पेशा भी छोड़ दो क्योंकि यह भी फारसी शब्द है ।

सरकारी कर्मचारी- बिदकते हुए शोर मचाते हुए बोला तो क्या जमालगोटा खाकर साहब को बोल दू कि शूल हो गया है?

कवि मित्र- ज्यादा शोर मचा मचाओ, आप शोर भी नहीं मचा सकते, क्योंकि शोर  भी विदेशी (फारसी) शब्द है, जमालगोटा भी नहीं खा सकता । यह भी विदेशी (पश्तो भाषा) का शब्द है  और हाँ! साहब को यह मत बोल देना कि मुझे हैजा हो गया है. क्योंकि हैजा भी विदेशी (अरबी) शब्द है और हाँ ! आप बीमार का बहाना भी नहीं बना सकते, क्योंकि बीमार शब्द भी विदेशी (फारसी) शब्द है ।

अन्त में सरकारी कर्मचारी खिझते हुए- अच्छा ! मैं सरकारी कर्मचारी तो हूँ न!

कवि मित्र- नहीं ! आप सरकारी कर्मचारी भी नहीं हो सकते, क्योंकि सरकारी शब्द भी विदेशी (फारसी) शब्द है ।

सरकारी कर्मचारी गुस्से से- हवालात जा रहा हूँ।

कवि मित्र- नहीं श्रीमान, आप हवालात  नहीं जा सकते, क्योंकि वह भी अरबी शब्द है । वहां जाओंगे तो वहाँ पर डंडे से स्वागत करने वाला बैठा हुआ दरोगा भी विदेशी है, क्योंकि दरोगा तुर्की शब्द है ।

 

सरकारी कर्मचारी निराश होते हुए बोला, "अब क्या करूँ?"

 

कवि मित्र- हमारा देश वसुधैव कुटु्म्बकं में विश्वास रखता है । देश भक्त का मतलब किसी भाषा या इन्सान से भेदभाव करना नहीं होता। हमने समय-समय पर सभी को अपनाया है ।

इसलिए जोर से बोलो पुरा विश्व हमारा परिवार है इस परिवार के सभी सदस्य को उचित सम्मान देगें ।

 

Photo: Thanks to google

हमारे ब्लॉग को पढ़ने के लिए आपका स्वागत। हमारा ब्लॉग कैसा लगा ? अपनी कीमती प्रतिक्रिया देकर हौसला बढ़ाये और आगे शेयर करना न भूले।

हम भारत के लोग



कोरोना से मरे हुए लोग,

थे हम भारत के लोग,

 

ऑक्सीजन की कमी से मरे

हुये कोरोना के मरीज,

थे हम भारत के लोग,

 

दवा की कमी से मरे

हुये कोरोना के मरीज,

थे हम भारत के लोग,

 

विधुत शवगृह के आगे,

लगी कोरोना से मरे

लोगों की लाशों की कतारें,

थे हम भारत के लोग,

 

श्मशान घाट पर जलते हुए,

कोरोना मरीज की लाशे,

थे हम भारत के लोग,

 

गंगा नदी के बालू में दफनाये

गये कोरोना से मरे लोग,

थे हम भारत के लोग,

 

गंगा नदी में तैरते हुए

कोरोना से मरे लोगों की लाशे,

थे हम भारत के लोग,

 

 

हम भारत के लोगों को

गर्व था,

अभिमान था,

उम्मीद थी,

अपनी सरकार पर,

अपनी सिस्टम पर,

अपनी भगवान पर,

 

वे हमें बचा लेंगे,

जैसे धर्म और संस्कृति की रक्षा

के लिए बना

मठाधिश शंकराचार्य,

आज बचा रहे धर्म और संस्कृति को,

 

मठाधीश बाबा,

राम मंदिर बनाकर

करोड़ों लोगों की रक्षा

कर रहे...

 

हम भारत के लोगों

की रक्षा करना जिनकी ईबादत है,

मृत्यु के मुँह से,

खिच लाना

जिनकी आदत है,

 

 

वे व्यस्त थे,

चुनाव में, कुम्भ में,

क्योंकि पुनः लाशों के

ढेर पर फिर

वहाँ कोई मंदिर

बनाना था।

 

फिर लाशों के

ढेर  पर

कोई मंदिर बनाना था।

 

 फोटोः संभार गूगल.


हमारे ब्लॉग को पढ़ने के लिए आपका स्वागत। हमारा ब्लॉग कैसा लगा ? अपनी कीमती प्रतिक्रिया देकर हौसला बढ़ाये और आगे शेयर करना न भूले।

कोरोना माता




आखिर कब खत्म होगी,
भांति-भांति और 
नाना प्रकार की
माता गढ़ने की होड़।
जब हर इंसान को
जन्म देने वाली
"माता" होती ही है।
इंसान का जन्म
इंसान ही देती है,
यह सार्वभौम सत्य हैं,
इंसान का जन्म
कोई जानवर, पशुपक्षी
भूखंड या कोई वायरस
जन्म नहीं देता।
तो फिर गाय माता,
भारत माता और
और अब नई माता
"कोरोना माता" को अवतार
लेने की जरूरत क्यों?
किसी चीज की,
पवित्रता अपनी जगह 
हो सकती है लेकिन
दूसरी माता के सत्कार
के चक्कर में,
अपनी जन्म देने वाली
माता को उचित 
सेवा-सत्कार देकर
वृद्धाश्रम जाने से
कब रोकेंगे हम?


फोटोः www.dainikbhaskar.com से संभार..