17 May, 2021

जन आक्रोश



 




🔥 जन आक्रोश🔥
----------------------------------------
लाशों पर फलता - फूलता व्यापार चाहिए।
कफ़न बेचता हूं,खरीदार चाहिए।।

चाहिए चंद बिकाऊ मीडिया हाउस।
कुछ बिके हुए पत्रकार चाहिए।।

झूठ को भी आंखे मूंद सच मान ले।
कुछ अंधे भक्त,वफादार चाहिए।।

देश की संपदा की लगा सकें बोली।
कुछ ऐसे व्यापारी दोस्त तैयार चाहिए।।

हमसे करेगा कौन अस्पताल की बात।
उनको तो सिर्फ धर्म और मज़हब का बुखार चाहिए।।

जो मर रहे है,उनके लिए अफ़सोस कैसा?
मौतों पर भी उत्सव तैयार चाहिए।।

जो अस्पताल के बाहर है,उनसे पूछो।
उन्हें बेड नही,धर्मरक्षक सरकार चाहिए।।

मरता हो कोई कल,मर जाए आज।
हमको तो चुनाव,कुंभ मेला बरक़रार चाहिए।।

अच्छे दिनों का चूरन ऐसा किया कमाल।
सरकार नही,उनको चौकीदार चाहिए।।

चौकीदार हर बार मिला चैन से सोता।
उसको तो बस भाषण दमदार चाहिए।।


       ✍️सिस्टम से डरा हुआ आक्रोशित नागरिक
           पवन सिंह

फोटो क्रेडिटः गूगल

हमारे ब्लॉग को पढ़ने के लिए आपका स्वागत। हमारा ब्लॉग कैसा लगा ? अपनी कीमती प्रतिक्रिया देकर हौसला बढ़ाये और आगे शेयर करना न भूले।

गुजर रही है जिंदगी



 




🔥गुजर रही है जिंदगी🔥
-----------------------------------------
गुज़र रही है ज़िंदगी
   ऐसे मुकाम से
अपने भी दूर हो जाते हैं,
   जरा से ज़ुकाम से।

तमाम कायनात में "एक कातिल बीमारी" की हवा हो गई,
वक्त ने कैसा सितम ढ़ाया कि
"दूरियां"ही "दावा" हो गई।

आज सलामत रहे
तो कल की सहर देखेंगे
आज पहरे में रहे
तो कल का पहर देखेंगें।

सांसों के चलने के लिए
कदमों का रुकना जरूरी है,
घरों में बंद रहना दोस्तों
हालात की मजबूरी है।

अब भी न संभले
तो बहुत पछताएंगे,
सूखे पत्तों की तरह
हालात की आंधी में बिखर जाएंगे।

यह जंग मेरी या तेरी नहीं
हम सबकी की है,
इस की जीत या हार भी
हम सब की है।

अपने लिए नहीं
अपनों के लिए जीना है,
यह जुदाई का जहर दोस्तों
घूंट घूंट पीना है।

आज महफूज़ रहे
तो कल मिल के खिलखिलाएंगे,
गले भी मिलेंगे और
हाथ भी मिलाएंगे।

                      ✍️पवन सिंह


हमारे ब्लॉग को पढ़ने के लिए आपका स्वागत। हमारा ब्लॉग कैसा लगा ? अपनी कीमती प्रतिक्रिया देकर हौसला बढ़ाये और आगे शेयर करना न भूले।

शुक्र कर रब का






🔥शुक्र कर रब का🔥
-----------------------------------------
शुक्र कर रब का,
तू अपने घर में है,
पूछ उस से जो
अटका सफर में है...
यहां बाप की शक्ल नही देखी
आखरी वक्त में कुछ लोगों ने,
बेटा हॉस्पिटल में और
बाप कब्र में है ...
तेरे घर में राशन है साल भर का,
तू उसका सोच जो दो वक्त की
रोटी के फ़िक्र में है...
तुम्हे किस बात की जल्दी है
गाड़ी में घूमने की,
अब तो सारी कायनात ही सब्र में है...
अभी भी किसी भ्रम में मत रहना मेरे दोस्त
इंसानों की नही सुनती आज कल,
कुदरत अपने सुर में है...


                     ✍️पवन सिंह


हमारे ब्लॉग को पढ़ने के लिए आपका स्वागत। हमारा ब्लॉग कैसा लगा ? अपनी कीमती प्रतिक्रिया देकर हौसला बढ़ाये और आगे शेयर करना न भूले।