02 June, 2021

दो जून की रोटी



भूख मिटाने
के लिये
रोटियां सब की
जरूरत होती है।

कोई मेहनत
करके
पाता है
दो जून की
रोटी,
तो
कोई मेहनत
करने वालों
की पेट काटकर
हासिल करता है
हजारों 
दो जून की रोटी
की कीमत

इसी अंतर को
किताबों में
नौकर-मालिक,
गरीब-अमीर,
और
मजदूर और पूँजीपति
कहा जाता है।
लेकिन
किताबों तक
न पहुँचने
वाला इंसान
इस किताब की
भाषा कैसे
समझे?

         © जेपी हंस





[जेपी डायरी एक स्वतंत्र ब्लॉग है, इसे नियमित पढ़ने के लिए सब्सक्राईब करें. प्रकाशित ब्लॉग पर आपकी प्रतिक्रिया अपेक्षित है. जेपी डायरी से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, फेसबुक पेज, ट्विटर पर फॉलो करे…]