29 June, 2021

दीपिका कुमारी- 27 साल में 54 देशों को धूल चटाने वाली भारतीय महिला.

                                              
 

कहा जाता है कि

  कोई भी देश यश के शिखर पर तब तक नहीं पहुँच सकता जब तक उसकी महिलाएं कंधे से कन्धा मिलाकर चले.

  आज महिला हर क्षेत्र में खुद को साबित कर रही हैं एवं पुरुषों से कंधा से कंधा मिलाकर चल रही है. वे परिवार, समाज और देश की तरक्की में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है, लेकिन फिर भी कई क्षेत्रों में महिलाओं को पुरुषों के बराबर अधिकार नहीं मिल रहा है. भारतीय समाज पितृसतात्मक होने के कारण आज भी भ्रूण हत्या, महिलाओं के साथ शोषण, अत्याचार, अन्याय और बलात्कार के मामले हो रहे हैं. इस विषय पर पुरुषों को जागरूक होने की जरूरत है.

 

                                    photo credit: gettyimages

                

                  झारखंड की रहने वाली दीपिका कुमारी ने 27 जून, 2021 को 27 वर्ष की उम्र में पेरिस में चल रहे विश्वकप तीरंदाजी में महिलाओं की व्यक्तिगत, टीम और मिश्रित युगल में तीन गोल्ड मेडल हासिल किया साथ ही विश्व की नम्बर वन महिला तीरंदाज बनने वाली पहली भारतीय महिला बनी. इस पर दीपिका कुमारी ने कहा-

 यह पहली बार है, जब मैंने वर्ल्ड कप में तीन गोल्ड मेडल जीते हैं. मैं बहुत खुश हूँ लेकिन साथ ही मुझे लगातार अच्छा प्रदर्शन करना है क्योंकि आने वाले समय में कुछ बहुत महत्वपूर्ण प्रतियोगिताएं होने जा रही है.

  इससे पहले महिला क्रिकेटरों ने विश्वकप महिला क्रिकेट में वर्ल्ड कप जीतकर देश का नाम रौशन किया था.

               इस विश्वकप तीरंदाजी प्रतियोगिता में 55 देश शामिल हुए थे. तीरंदाजी प्रतियोगिता में दीपिका कुमारी के साथ झारखंड की अंकिता दास और कोमोलिका बारी भी शामिल हुई थी. दीपिका इससे पहले मात्र 18 साल की उम्र में वर्ल्ड नम्बर वन खिलाड़ी बन चुकी है. अब तक विश्व कप प्रतियोगिता में 9 गोल्ड मेडल, 12 सिल्वर मेडल और 7 ब्रॉन्ज हासिल कर चुकी है साथ ही भारत की ओर से तीरंदाजी प्रतियोगिता में जाने वाली अकेली महिला है.

                

                                       photo credit: gettyimages

               झारखंड के बेहद गरीब पिछड़े समाज में जन्म लेने वाली 27 वर्षीय दीपिका कुमारी ने पिछले 14 सालों में खेल का लम्बा सफर तय कर इस मुकाम पर पहुँची है. दीपिका के पिता शिवनारायण महतो एक ऑटो-रिक्शा ड्राईवर और माँ गीता महतो एक मेडिकल कॉलेज में ग्रुप-डी कर्मचारी है. ओलंपिक महासंघ द्वारा बनाये गये एक डॉक्मेन्ट्री में दीपिका बताती है कि उनका जन्म एक चलते हुए ऑटो रिक्शा में हुआ था क्योंकि उनकी माँ अस्पताल नहीं पहुँच पाई थी. दीपिका की शादी पिछले साल 30 जून को टाटा आर्चरी अकेडमी में उनके साथ तीरंदाज सीखने वाले अतनु दास के साथ हुआ था.

               आज इस भारतीय पितृसतात्मक समाज में पुत्र की चाहत में भ्रूण हत्या कर न जाने कितने दीपिका कुमारी और मिताली राज जैसे विश्व की उच्च प्रतियोगिता के शिखर पर पहुँचने वाली महान महिलाओं को गर्भ में हत्या की दी जाती है. आज भी महिलाओं को घर से दूर पढ़ने जाने की इजाजत नहीं दी जाती है. अगर दीपिका कुमारी को घर से 200 किलोमीटर दूर तीरंदाजी सिखने नहीं जाने दि जाती तो क्या परिवार, समाज और देश का नाम रौशन कर पाती?

                इससे पहले भी भारतीय राजनीति में सफल महिलाओं की सूची में सुश्री मायावती, श्रीमति राबड़ी देवी, सुश्री ममता बनर्जी, सुश्री जयललीता और श्रीमती सुषमा स्वराज का नाम शामिल है.

 

[जेपी डायरी एक स्वतंत्र ब्लॉग है, इसे नियमित पढ़ने के लिए सब्सक्राईब करें. प्रकाशित ब्लॉग पर आपकी प्रतिक्रिया अपेक्षित है. जेपी डायरी से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, फेसबुक पेज, ट्विटर पर फॉलो करे…]